BREAKING NEWS
Search

प्रॉपर्टी डीलर के घर छापा मारकर करीब दो करोड़ रु की प्रतिबंधित नशीली दवाएं बरामद

547

काशीपुर। पुलिस प्रशासन की संयुक्त टीम ने काशीपुर में मानपुर रोड स्थित एक प्रॉपर्टी डीलर के मकान पर छापा मारकर करीब दो करोड़ रुवपये की कीमत की प्रतिबंधित नशीली दवाएं बरामद की है। प्रॉपर्टी डीलर के परिजनों ने यह स्टॉक काशीपुर के थोक दवा विक्रेता द्वारा किराए पर जगह लेकर रखा जाना बताया है। पुलिस दवा के जखीरे को अपने साथ ले गई है। फिलहाल ड्रग्स व पुलिस टीम दवाओं के डिब्बे की गिनती व कीमत का आंकलन कर रही है

गिरीश गैरोला

 मानपुर रोड पर प्रापर्टी डीलर के घर पर प्रतिबंधित नशीली दवाओं का गोदाम होने की सूचना पर अपर पुलिस अधीक्षक राजेश भट्ट के निर्देश पर एसओजी टीम के साथ तहसीलदार बीसी पंत, कोतवाल चंद्रमोहन रावत व डॉ. अमरजीत सिंह ने मय फोर्स के प्रॉपर्टी डीलर के घर पर छापा मारा। इस दौरान पुलिस ने उसके घर की किचन में रखा दवाओं का जखीरा देखा। पुलिस के समक्ष डॉ. अमरजीत ने जांच की तो पता चला कि  किचन में दर्जनों प्रतिबंधित नशे के इंजेक्शन के डिब्बे, कैप्सूल और गोलियों के डिब्बे मिले।

डॉ. अमरजीत सिंह ने बताया कि होलसेल में उक्त दवाओं की कीमत करोड़ों में है। इतनी अधिक मात्रा में नशीले दवाओं का जखीरा मिलने से चिकित्सक व पुलिस अधिकारी सकते में हैं। कुछ देर बाद अपर पुलिस अधीक्षक राजेश भट्ट मौके पर गए। प्रॉपर्टी डीलर की पत्नी ने एएसपी को बताया कि यह दवाएं नगर स्थित दवा विक्रेता की है, उन्होंने एक कमरा तीन हजार रुपये प्रति माह किराए पर ले रखा है।

पूछताछ में पता चला कि प्रापर्टी डीलर किसी काम से मुरादाबाद गया है और दवा विक्रेता नगर में ही है। दवा विक्रेता ने फोन पर बताया कि उक्त माल जसपुर खुर्द निवासी एक दवा विक्रेता का है। पुलिस पिकअप से दवा कोतवाली ले आई लेकिन इस मामले में मुकदमा दर्ज नहीं हो सका है। प्रतिबंधित नशे की दवाएं चिकित्सकों द्वारा इमरजेंसी ड्रग के रूप में लिखी जाती हैं। जब्त दवाओं में ट्रामाडोल, पेन्टाजोसिन, फिनाइन प्रोपलाइन, डाईसाईक्लोमाइन आदि हैं। ट्रामाडोल व पेंटाजोसीन इंजेक्शन ट्रामा इंजरी में असहनीय दर्द से तुरंत आराम के लिए प्रयोग में लाया जाता है। प्रतिबंधित इंजेक्शन व कैप्सूल के रूप में काशीपुर में नशा धड़ल्ले से बिक रहा है। कभी कभी इमरजेंसी में काम आने वाली दवाओं का जखीरा मिलने से न सिर्फ पुलिस सकते में हैं बल्कि चिकित्सक भी हैरत में हैं।