BREAKING NEWS
Search

उत्तरकाशी -पहाड़ी बग्वाल में संस्कृति से जुड़ने को आतुर युवा

377

कार्तिक दीवाली के ठीक एक महीने बाद उत्तराखंड के गढ़वाल में मंगसिर कई दीवाली मनाई जाती है जिसे बग्वाल कहा जाता है।
मान्यता है कि टिहरी राजशाही के सेनापति बीर भड़ माधो सिंह भंडारी दीवाली के समय तिबत युध्द में थे और एक महीने बाद जब वे विजयी होकर लौटे यो उनके स्वागत में लोगो ने दीवाली बग्वाल मनाई।

गिरीश गैरोला।


आधुनिक दौर में लुप्त हो गयी इस रिवाज और परंपरा को फिर से जीवित रखने के प्रयास में उत्तरकाशी के राम लीला मैदान में सामूहिक रूप से लोग बग्वाल मनाते है जिसमें पहाड़ी वेशभूषा पहाड़ी पकवान और पहाड़ी लोक गीत लोक नृत्य किये जाते है।




Leave a Reply

error: Content is protected !!